हेमवती नन्दन बहुगुणा गढ़वाल केन्द्रीय विश्वविद्यालय के बिड़ला परिसर में अध्ययनरत् बी॰एड॰ प्रशिक्षणार्थीयों के मानवाधिकार जागरूकता का अध्ययन

Anoop Kumar Singh, Geeta khandudi

Abstract


मानवाधिकार के बिना मनुष्य अपने अस्तित्व के विषय में सोचना असम्भव है। मानवाधिकार प्रत्येक मनुष्य को नागरिक के रूप में राजनैतिक अधिकार, सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक अधिकारों की स्वतन्त्रता प्रदान करता है। प्रस्तुत शोध का उद्देश्य बी0 एड0 प्रशिक्षणार्थियों में मानवाधिकारों के प्रति जागरूकता का अध्ययन उनके लिंग, वर्ग के आधार पर अध्ययन करना है। शोध, वर्णनात्मक (सर्वेक्षण) विधि पर आधारित है। जनसंख्या के रूप में हेमवती नन्दन बहुगुणा गढ़वाल केन्द्रीय विश्वविद्यालय के बिड़ला परिसर में अध्ययनरत् सभी बी॰एड॰ प्रशिक्षणार्थियों को सम्मिलित किया गया है। साधारण यादृच्छिक प्रतिदर्शन विधि द्वारा 100 प्रशिक्षणार्थियों को न्यादर्श के रूप में चयन किया गया। डाॅ विशाल सूद तथा डाॅ आरती आनन्दद्वारा निर्मित मानवाधिकार जागरूकता परीक्षण का प्रयोग कर आंकड़ों का संकलन किया तथा सांख्यिकी विश्लेषण के लिए मध्यमान, मानक विचलन तथा टी परीक्षण का प्रयोग किया गया है। प्रदत्तों के विश्लेषणोपरांत निष्कर्षतः बी॰एड॰ प्रशिक्षणार्थियो में मानवाधिकारों के जागरूकता के प्रति अध्ययन करने पर छात्र-छात्राओं में लिंग, वर्ग के आधार पर अन्तर पाया गया है।

Keywords


प्रशिक्षणार्थीं, मानवाधिकार एवं जागरूकता।

Full Text:

PDF

References


कश्यप, एस॰ (2006).हमारा संविधान, नई दिल्लीः नेशनल बुक ट्रस्ट इण्डिया।

कपिल, एच॰ के॰ (2008). सांख्यिकी के मलू तत्व (सामाजिक विज्ञानों मंे), आगराः अग्रवाल प्रकाशन।

कौल, एल॰ (2010). मेथेडोलॉजी ऑफ एडुकेशनल रिसर्च, दिल्लीः विकास पब्लिशिंग हाउस।

जोशी, के॰सी॰ (2017).अंतराष्ट्रीय विधि और मानवाधिकार, लखनऊः ईस्टर्न बुक कम्पनी।

तनेजा, डाॅ॰पी॰(2001). मानव अधिकार और बाल शोषण, दिल्लीः साहित्य प्रकाशन।

दयाल, जे॰के॰ एवं कौर, एस॰ (2015). पी॰एस॰ई॰बी॰ एवं सी॰बी॰एस॰ई॰ से मान्यता प्राप्त स्कूलांेमेंकार्यरत अध्यापका मंे मानवाधिकार के प्रति जागरूकता का तुलनात्मक अध्ययन, इण्डियन जरनल आॅफ रिसर्च।

देशकर, (2007).ह्यूमन राइट्स आॅफ द अडाप्टेड गर्ल चाइल्ड विद स्पेशल रेफरंेस टू सोशियल वर्क इन्टरवेन्सन: ए स्टेडी इन विदर्भ, राष्ट्र संत तुकादोजी महाराज, नागपुर विश्वविद्यालय, नागपुर।

बावेल, बी॰ एल॰ (2016).मानवाधिकार, इलाहाबादः सेन्ट्रल ला पब्लिकेशन।

मिश्रा, पी॰ के॰ एवं आर के॰ एम॰ (2002).ट्रेण्डस एण्ड इस्यूज इन इण्डियन एजुकेशन, मेरठःलायल बुक डिपों।

यादव, ए॰ के॰ (2018). विद्यार्थियों में मानवाधिकार जागरूकता का विश्लेषणात्मक अध्ययन,इन्टरनेशनल जनरल ऑफ एडवान्स रिसर्च एण्ड डेवलपमेंट,आई॰एस॰एस॰न॰ः2455-4030, वाॅल्यूम-3, इश्यूज-2, मार्च 2018, पृष्ठ सं. 654-657.

सिंह, डी॰ (2015). मानव अधिकार, दिल्लीः भारत बुक सेन्टर।

शाह,एम॰ के॰ (1991). मानव अधिकार शान्ति और विकास, विकासशील राष्ट्रांे के संदर्भ में, अहमदाबादः नवजीवन मुद्रणालय।

शर्मा,एम॰(2017). शिक्षकों मंे मानवाधिकार के प्रति जागरूकता का विश्लेषणात्मक अध्ययन, रिमार्किंग एन एनालाइजेशन, वाॅल्यूम-2, इश्यूज-9, दिसम्बर-2017, आई॰एस॰एस॰न॰न॰ः(पी॰-2394-0344, ई॰-2455-0817),आर॰एन॰आई॰न॰ःयू॰पी॰बी॰आई॰एल॰ध्2016ध्67980.

शर्मा, आर॰ ए॰ (2005). मापन, मल्ूयाकंन एवं सांख्यिकी, प्रकाशकः इन्टरनेशल पब्लिशिगं हाउस।

श्रीवास्तव, डी॰ एन॰ (2001). अनुसंधान विधियाँ, आगराः साहित्य प्रकाशन।


Refbacks

  • There are currently no refbacks.